Action Points – realistically Get-Things-Done

Procrastination, dullness, fatigue and lack of motivation are some of the situations we face when we put ourselves into a hyper-enthusiastic mode of action, a ‘get-things-done-to-achieve’ mode. So what is it that we are not doing right? We have biases and fallacies that need to be self-understood and made realistic. Continue reading Action Points – realistically Get-Things-Done

कुछ शब्द

शब्दों की तलाश में, बैठू दिन रात मैं, सोचू की क्या आएगा उसे पसंद, समझ पाएगा क्या वो मेरी पहल, क्या ये कुछ शब्द कहीं कम तो नहीं, इस दिल का हाल बताने में, क्या ये प्यार कहीं कम तो नहीं, उसको करीब लाने में, कभी मन में ख्याल आता है, क्यू समझ वो नहीं पाता है, क्या कर देंगे ये दो लब्ज़ इस प्यार … Continue reading कुछ शब्द